आर्यभट्ट विज्ञान क्लब एक फिर सम्मानित

Image
आर्यभट्ट विज्ञान क्लब एक फिर सम्मानित



विज्ञान प्रसार , विज्ञान एवम प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार द्वारा 12 और 13 अगस्त को दर्शन इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एन्ड टेक्नोलॉजी, राजकोट में आयोजित अखिल भारतीय वार्षिक सम्मान समारोह में विज्ञान क्लब के उम्दा गतिविधियों के आधार पर 2019 में पुनः गोल्ड केटेगरी सम्मान से प्रधान वैज्ञानिक डॉ अरविन्द रानाडे और नवोदय विद्यालय संगठन के जॉइंट सेक्रेटरी डॉ रामचंद्रन द्वारा सम्मानित किया गया।वहीं पर आयोजित पोस्टर प्रेजेंटेशन प्रतिस्पर्धा में भी झारखण्ड में क्लब के समन्वयक आलोक चौधरी को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ। इस खबर से विज्ञान क्लब के सभी सदस्यों में काफी खुशी है। मौके पर क्लब के वरीय पदाधिकारी सतीश कु पांडेय, अजित कु पांडेय, रामानुज कुमार आदि ने ख़ुशी व्यक्त की है।

14 march a mystery day for Science

14 मार्च एक रहस्मयी विज्ञान का दिन 

14th march is world Pi day (celebrated in US)
Relevance of 3.14 (Pi) day:
Birth of Albert Einstein (3.14.1879)
Death of Karl Marx (3.14.1883)
Death of Stephen Hawking (3.14.2018)

Relativity | Revolution | Radiation

एक और जहां विज्ञान के क्षेत्र में आज हम विश्व प्रसिद्ध वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन के जन्मतिथि पर पुण्य स्मरण कर रहे हैं lवही महान वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग अब हमारे मध्य नहीं रहेl विज्ञान और समाज समूह उनको पुण्य स्मरण कर श्रद्धांजलि अर्पित करता है ऐसे दोनों महान वैज्ञानिकों को शत शत नमन।


लेकिन इनके साथ एक और संयोग जुड़ा हुआ है।
14 मार्च को ऐसा अजब संयोग बना जो साइंस की दुनिया के लिए काफी हैरान करने वाला है। आज के दिन दुनिया के दो सबसे मशहूर साइंटिस्ट में से एक का जन्म हुआ और दूसरे की मौत। 14 मार्च 1879 को मशहूर साइंटिस्ट अल्बर्ट आइन्सटाइन का जन्म हुआ था। आइन्सटाइन की लोकप्रियता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता था कि आज भी बच्चों से लेकर बूढ़े हों या साइंस में इंटरेस्ट न रखने वाले भी इस नाम को बखूबी जानते हैं। वहीं दूसरी ओर आइन्सटाइन के बाद मॉर्डन दुनिया के जाने-माने साइंटिस्ट स्टीफन हॉकिंग का आज ही के दिन निधन हो गया। इसमें एक तीसरे महान साइंटिस्ट का भी ऐसा संयोग जुड़ा है जिसने साइंटिस्ट्स को भी हैरान कर दिया है। ये है अजब संयोग...

आपको जानकर हैरानी होगी कि जिस दिन स्टीफन हॉकिंग्स का जन्म हुआ ठीक उसी तारीख को महान साइंटिस्ट गैलीलियो की भी मौत हुई थी। गैलीलिया की मौत 8 जनवरी 1642 को हुई थी। जबकि स्टीफन हॉकिंग्स का जन्म ठीक 300 सालों बाद 8 जनवरी 1942 को हुआ। 


अगर इन तीनों कड़ियों को जोड़े तो हम पाएंगे के स्टीफन हॉकिंग का जन्म और उनकी मृत्यु की तारीख दुनिया के दो और महान साइंटिस्ट्स से जुड़ी हुई है। 14 मार्च यानी आज के दिन स्टीफन का निधन हुआ, जोकि अल्बर्ट आइन्सटाइन की जन्म तारीख है। वहीं 8 जनवरी को स्टीफन पैदा हुए जो कि महान गैलीलियो के निधन की तारीख है।

76 का संयोग
 हैरानी की बात ये भी है आइन्सटाइन की मौत भी 76 साल की उम्र में हुई और अब स्टीफन का निधन भी 76 साल की उम्र में हो गया। यही नहीं गैलीलियो का निधन 77 साल की उम्र में हुआ था
21 साल की उम्र में स्टीफन को लाइलाज बीमारी हो गई थी। वे कैंब्रिज यूनिवर्सिटी में सैद्धांतिक ब्रह्मांड विज्ञान के निदेशक थे। हॉकिंग की गिनती आइन्सटाइन  के बाद सबसे बड़े भौतिकशास्त्री के तौर पर होती है। कंप्यूटर और विभिन्न गैजेट्स के जरिए वे अपने विचार व्यक्त करते थे। ब्लैक होल और बिग बैंग थ्योरी को समझने में उन्होंने अहम योगदान दिया है।

Comments

Popular posts from this blog

VVM Participation Certificate Out: Invigilator ,Student and Exame Coordinator

VVM Result 2018

YOU CAN BE ISRO YOUNG SCIENTIST - 3 STUDENTS FROM EACH STATE

Alok Kr. Chaudhary honored by Dr. APJ Abdul Kalam Young Scientist Award 2018 at Nation Science Techno Fair 2018

Kerala Flood Relief:Help to Indian if You are Indian

Vidyarthi Vigyan Manthan 2018