Friday, 27 December 2019

Activity on Annular Solar Eclipse by Aryabhatt Science Club Ranka VP-Jh0...

Aryabhatt Science

Registration start for general participant for Indian Science Congress 2020 at Bengaluru

Aryabhatt Science

Indian Science Congress 2020 Announced much earlier be part of it by register below- 

Register

*Be ready Scientists*

107th Indian Science Congress Association (ISCA) @ University of Agricultural Sciences, Bangalore [Jan 3-7, 2020]:
   

*About the Conference*
The 107th session of the Indian Science Congress Association will be held at the University of Agricultural Sciences, Bangalore from January 3 to 7,2020.

The Focal Theme of the conference being “Science and Technology: Rural Development” and is proposed to be inaugurated by the Prime Minister of India.

*Themes*
Agriculture and Forestry Sciences.
Animal, Veterinary and Fishery Sciences.
Chemical Sciences.
Engineering Sciences.
Earth System Sciences.
Environmental Sciences.
Materials Science.
Information and Communication Science & Technology (including Computer Sciences).
Anthropological and behavioural Sciences (including Archaeology, Psychology, Education and Military Sciences).
Medical Sciences ( Including Physiology ).

*Call for Papers*
All papers to be submitted for presentation at the 107th Science Congress must be sent to the Concerned Sectional Presidents. Each paper must be accompanied by three copies of abstracts (within 100 words, without any sketches, tables, etc.) and a copy of the full paper and CD (Typed in MS Word).
Each author is entitled to submit only two papers.

*How to Apply*
Four copies of full length paper along with four copies of the abstract (not exceeding 100 words) must reach the office of the General Secretary (Membership Affairs) not later than September 15, 2019.

*Important dates*
Last Date to Subscribe to ISCA: 15th July, 2019.

Last Date to apply: 15th September, 2019.

Award Session: 7th January, 2020.
Email ID: es.sciencecongress@nic.in

InterState Science Tinkering Fest (ISSTF) 2019-20 in Indian Institute Of Technology - Kanpur on 25 january 2020.

Aryabhatt Science

InterState Science Tinkering Fest (ISSTF) 2019-20 in Indian Institute Of Technology - Kanpur on 25 January 2020.


Download Brochure

It's my pleasure to inform you that  for promoting STEM education and for enhancing the Skill development, Vijnana Bharati(VIBHA) Brahmavart in association with IIT - Kanpur and Stem Robo are going to organize InterState Science Tinkering Fest (ISSTF) 2019-20 in Indian Institute Of Technology - Kanpur on 25 january 2020.
There are four types of event in this fest.
*1. Science Tinkering Exhibition*
Only Those students can participate who develop a prototype through innovation, which is useful as well as low cost for society. It's a platform where officials of Government organizations like NITI Aayog, NIF, STPI, Vigyan Prasar, CBSE & NCERT will visit the exhibition and also some big startup companies will sign a bond  with students to transform selected proto type models into the products.
Registrations open only in limited number and for limited period of time on www.vibhabrahmavart.org

*2. STEM Club Meet*
*3. STEM Leadership Summit*

In this program Science teachers and Principals can participate where policy makers ( Officials of NCERT, CBSE, NITI Aayog, NIF & Vigyan Prasar ) will interact.
It will be a informative and great learning experience for all of us.

Registrations open only in limited number and for limited period of time on www.vibhabrahmavart.org
*4. Science Technology and Industry Expo*
It is for entreprenures who had started their startup and making some unique products can display.
Registrations open only in limited number and for limited period of time on www.vibhabrahmavart.org
For regular information, whatsapp me on (9889060047).
Regard
Kaustub Omar
Convener- ISSTF

🙏🏻🇮🇳🙏🏻
मुझे आपको जानकारी देते हुए खुशी हो रही है कि स्टेम(STEM) एजुकेशन के महत्व एवं विद्यार्थियों के कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिये 25 जनवरी 2020 को आई आई टी कानपुर में विज्ञान भारती ब्रह्मावर्त, आई आई टी कानपुर व स्टेम रोबो के सहयोग से InterState Science & Tinkering Fest (ISSTF) 2019-20 कर रहा है।
इस फेस्ट में चार तरह के कार्यक्रम है।
*1. Science Tinkering Exhibition*
इस कार्यक्रम में वे विद्यार्थी जिन्होंने Innovation के through कम लागत में कुछ ऐसा protoptype विकसित किया है जो कि society के लिए useful हो सकता है, प्रदर्शित कर सकते है। पंजीकरण सीमित।समय के लिए वेबसाइट www.vibhabrahmavart.org/registration पर उपलब्ध है।
यह एक ऐसा प्लेटफार्म है जहाँ देश के बड़े सरकारी संगठनों जैसे NITI Aayog, NIF, STPI, Vigyan Prasar, CBSE, NCERT के officials प्रदर्शनी को अवलोकित करेंगे साथ ही देश की बड़ी स्टार्ट अप कम्पनियां selected models को product के रूप में विकसित करने के लिए bonding करेंगी।
*2. STEM Club Meet*
*3.STEM Leadership summit*
👆ये प्रोग्राम science teachers व principals के लिए है जिसमे policy makers  (NCERT, CBSE, NITI Aayog, NIF व Vigyan Prasar) officials के साथ Interactieve Sessions होंगे। participants को STEM education के प्रति नई जानकारियां, एक नया अनुभव व नया नजरिया मिलेगा।
रजिस्ट्रेशन सीमित संख्या में व सीमित अवधि के लिए
www.vibhabrahmavart.org/registration पर उपलब्ध है।
*4. Science, Technology & Industry Expo*

इनमे वह सभी entreprenure शामिल है जिन्होंने कुछ startup किया है, वह अपने unique products के stall लगाने के लिए आमंत्रित हैं। रजिस्ट्रेशन बेहद सीमित संख्या व सीमित अवधि के लिए www.vibhabrahmavart.org/registration पर उपलब्ध है।
सम्बन्धित सूचनाओ के लिए ग्रुप में जुड़ने हेतु मुझे इस नंबर(9889060047) पर व्हाट्सअप करे।

कौस्तुभ ओमर
संयोजक, ISSTF.

Thursday, 26 December 2019

Engineers Day special

Aryabhatt Science

14 सितंबर को Engineers'Day पर 




खचाखच भरी एक रेलगाड़ी चली जा रही थी। यात्रियों में अधिकतर अंग्रेज थे। एक डिब्बे में एक भारतीय मुसाफिर गंभीर मुद्रा में बैठा था। सांवले रंग और मंझले कद का वह यात्री साधारण वेशभूषा में था इसलिए वहां बैठे अंग्रेज उसे मूर्ख और अनपढ़ समझ रहे थे और उसका मजाक उड़ा रहे थे। पर वह व्यक्ति किसी की बात पर ध्यान नहीं दे रहा था। अचानक उस व्यक्ति ने उठकर ट्रेन की जंजीर खींच दी। तेज रफ्तार में दौड़ती ट्रेन तत्काल रुक गई। सभी यात्री उसे भला-बुरा कहने लगे। थोड़ी देर में गार्ड भी आ गया और उसने पूछा, 'जंजीर किसने खींची है?' उस व्यक्ति ने बेझिझक उत्तर दिया, 'मैंने खींची है।' कारण पूछने पर उसने बताया, 'मेरा अनुमान है कि यहां से लगभग एक फर्लांग (220 गज) की दूरी पर रेल की पटरी उखड़ी हुई है।' गार्ड ने पूछा, 'आपको कैसे पता चला?' वह बोला, 'श्रीमान! मैंने अनुभव किया कि गाड़ी की स्वाभाविक गति में अंतर आ गया है। पटरी से गूंजने वाली आवाज की गति से मुझे खतरे का आभास हो रहा है।' गार्ड उस व्यक्ति को साथ लेकर जब कुछ दूरी पर पहुंचा तो यह देखकर दंग रह गया कि वास्तव में एक जगह से रेल की पटरी के जोड़ खुले हुए हैं और सब नट-बोल्ट अलग बिखरे पड़े हैं। तब तक दूसरे यात्री भी वहां आ पहुंचे। 

जब लोगों को पता चला कि उस व्यक्ति की सूझबूझ के कारण उनकी जान बच गई है तो वे उसकी प्रशंसा करने लगे। गार्ड ने पूछा, 'आप कौन हैं?' उस व्यक्ति ने कहा, 'मैं एक इंजीनियर हूं और मेरा नाम है डॉ. एम. विश्वेश्वरैया है।' यह नाम सुन ट्रेन में बैठे सारे अंग्रेज स्तब्ध रह गए।

Aryabhatt Science

10th ARIES Training School in Observational Astronomy-2020 (ATSOA-2020, 16th-26th March 2020)


on-line registration: Click here
http://www.aries.res.in/~atsoa

The 10th ATSOA will be held from 16th-26th March 2020 at ARIES, Manora Peak, Nainital.
The focus will be on hand on experience on observational Astronomy using 1m ARIES
telescope. The topics covered at the school included Telescopes, Star Formation and
Evolution, Circumstellar Matter, Radiative Processes, and Techniques of Photometry,
Spectroscopy, Polarimetry as well as Galactic and Extra- Galactic Astronomy. Priority will be
given to hands-on/demo sessions on image processing and spectral analysis, and training of
night sky by eye programe. The audience targeted by the school is primarily the young M.Sc.
or Ph.D first year students, inclined to work in observational Astronomy. During the school
ample time will also be for discussions and practice as well to interact closely with ARIES
Ph.D. research students who will be main driver behind the hand on sessions.
Scientific rational: Our current understanding of the Universe depend not only on
continuous growth of observation facilities, but also on the number of peoples utilizing them.
Recently there has been seen serge in upcoming observatory not only national wise but also
in the international scenario, such as this year installed ARIES Devasthal 3.6m telescope and
internationally existing European very large 8.6m telescope (VLT) and American Keck 10m
telescope. Similarly in the high energy range (X-ray and gamma-ray) which have been made
possible by satellites such as XMM-Newton, Chandra, INTEGRAL, RXTE, Swift, and Suzaku,
while ongoing new missions, like Indian Astro-sat and Fermi Gamma-Ray Observatory,
alongwith upcoming 30m class telescope promise new discoveries. The same is true for
radio astronomy with many discoveries from the existing world-leading radio-astronomical
observatories such the ATCA, VLA, VLBA, EVN, MERLIN and GMRT in India, which is
world's largest radio telescope at meter wavelength, with a range of major planned upgrades
to these facilities, plus additional facilities planned and under construction.
 Clearly, given these developments, the need for more researchers to exploit the enormous
volume of available and upcoming scientific data, both by analyzing these data and
interpreting them, is pressing. In this context, we announce 10th ARIES training school in
Observational Astronomy (ATSOA) to provide, young Indian Universities/College M.Sc. final
year or fresh Ph.D. students, the necessary expertise/skill to independently conduct data￾analysis relating to observational astrophysics especially in Optical domain.

IMPORTANT DATES

Registration open: 26 Dec-2019: . Registration closes: 30 Jan-2020
 Firs list of selection: 10th Feb 2020 .
Second list of selection : 25th Feb 2020
 Schedule announcement: 1
st March 2020
 ATSOA 2020 to be held: 16th to 26th March 2020

on-line registration: http://www.aries.res.in/~atsoa

email: atsoa@aries.res.in or atsoa.aries@gmail.com

Monday, 21 October 2019

What is Vijnana Bharati (Vibha) || Congratulates to all vibha member on establishment day of Vijnana Bharati

Aryabhatt Science
विज्ञान भारती के स्थापना दिवस पर सभी को हार्दिक बधाई। आइये जानते है विभा के बारे में कुछ महत्वपूर्ण बातें।

विज्ञान भारती :- विज्ञान भारती की शुरुआत स्वदेशी विज्ञान आंदोलन के रुप में IISC बेंगलुरु से हुई।

विज्ञान भारती की स्थापना :-
20-21 अक्तूबर 1991 - स्वदेशी विज्ञान आंदोलन अब समृचे भारत भरबढे इस दृष्टि से समग्र विचार करने के लिए समविचारी शास्त्रज्ञों की एक
अखिल भारतीय चर्चा-बैठक दो दिन तक नागपुर के पासही खापरी में संपत्र
हुयी। अन्यान्य स्थानों से आये हुए कुल ६१ शास्त्रज्ञों ने इसमें भाग लिया।
बंगलोर के प्रो.के.आय. वासू इसके राष्ट्रीय संयोजक थे। मा.श्री. दत्तोपंत ठेंगडी
तथा मा. प्रो. राजेंद्रसिंहजी के
मा.श्री. कु.सी. सुदर्शनजी का समारोप का जाहीर भाषण स्थानीय धनवटे
रंगमंदिर में हुवा।
विषयवार गटशः बैठकें भी हुयी।

विचारगोष्ठी के लिये कुल २५ निबंध आये थे ।
पांच गट इस प्रकार थे :-
(१) कुल मिलाकर भौतिक शास्त्रोंका एक गट बनाया था जिसके प्रमुख थे
गाझियाबाद के डॉ.जगमोहन गर्ग। अन्यान्य विषयें के १५ शास्त्रज्ञों ने
स्वदेशी के संदर्भ में विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी के विषय में अपने अपने
विचार रखें।
(२) प्राण विज्ञान के गट का प्रमुखत्व नागपुर के ही डॉ.भानूजी भांबुरकर ने
किया जिसमें जीवशास्त्र, सूक्ष्मजीवाणुशास्त्र इ. विषयों के ८
शास्त्रज्ञोंने भाग लिया।
(३) स्वास्थ्य-विज्ञान के गट का प्रमुखत्व कलकत्ता के हार्टस्पेशालिस्ट
डॉ.सुजीत धर ने किया जिसमें अॅलोपाथी, होमिओपारथी तथा आयुर्वेद
के १४ विशेषज्ञों ने अपने अपने विचार व्यक्त किये।
(४) समाज-विज्ञान के गट का प्रमुखत्व हमारे कार्यपालन समिती सदस्य
प्रा.श्री. गो. काशीकर ने किया जिसमें कुल ७ शास्त्रज्ञों ने चर्चा की।
राजनीतिशास्त्र तथा अर्थशास्त्र के विद्वान इसमें मुख्य रुपसे थे।
(५) शिक्षा के माध्यम से स्वदेशी विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी का प्रसार केसा
हो? इस की चर्चा करनेवाले इस गट के प्रमुख थे डॉ. रा. ह. तुपकरी जिसमें
१० विशेषज्ञों ने भाग लिया।
सत्रावसान के बाद अनौपचारिक वार्तालापके लिये सब लोग एकत्र
आये और कार्यके देशव्यापी विस्तार पर सोचने लगे। हर प्रदेश में कमसे कम
एक कार्यकर्ता ऐसा निकले जो कार्य की दृष्टिट से कुछ समय देकर प्रदेश स्तर
पर कार्य की इकाई (युनिट) बनायें। किसी भी नामसे यह कार्य किया जा सकता
है। एक-देढ सालके पश्चात् फिर सभी प्रमुख एकत्र आकर अखिल भारतीय
संगठन के विषय में विचार करें जिसका नाम सर्वसंमति से 'विज्ञान भारतीं
सूचित किया गया| कर्नाटक, तामिळनाडू तथा केरळ में स्वदेशी सायन्स
मुव्हमेंट इस नामसे पहले से ही कार्य शुरु हो गया था।

संगठन के उद्दिष्ट:-

समय समय पर चर्चा विचार करते हुए संस्था ने कुछ उद्दिष्ट
(Objcctive) अपने सामने रखे है, जो इस प्रकार है :-
(१) भौतिक शास्त्रों और अध्यात्मिक शास्त्रों का परस्पर सुसंवादी संयोग
वृध्दिंगत करना।
(२) स्वदेशी भाव जागृत करनेवाला सच्चा विज्ञान-आंदोलन खड़ा करना
जिसके द्वारा राष्ट्र का विकास या पुनर्निरमाण हो सके।
(३) आयुर्वेद, सिध्दआयुर्वेद, वास्तुविद्या, योग इत्यादि एतद्देशीय
शास्त्रों के विकास के लिये आंदोलन खड़ा करना।
(४) प्राचीन भारत की उपलब्धियों को खोजना तथा आधुनिक विज्ञान के साथ
उसका मेल जोड़ना, जिससे कि भारत को विज्ञान क्या है पता ही नही
था इस ढकोसले का भंडाफोड हो।
(५) भारत की वैज्ञानिक परंपरा को शिक्षाविदों द्वारा विद्यालयीन पुस्तकों मे
समाविष्ट कराना।
(६) जनप्रिय, व्यवसायी तथा अनुसंधान स्तरके कार्यकलापों के लिये और
शिक्षा प्रदान करने के लिये भी भारतीय भाषायें कम योग्य नही है इसको
प्रदर्शित करना।
(७) सभी राष्ट्रीय भाषाओं मे भारतीय वैज्ञानिकों के जीवन तथा कार्य के संबंध
में पुस्तकें प्रकाशित करना।
(८) विज्ञान संबंधी विचारगोष्ठीयों को प्रादेशिक भाषाओं मे संचालित तथा
प्रचारित करना।
(९) सभी राष्ट्रीय भाषाओं के लिये समान लिपी तथा समान शास्त्रीय
परिभाषा विकसित करने की दृष्टिसे कार्य करना।
(१०) औद्योगिक उत्पादन के क्षेत्रमें, जिसमें बडे बडे उद्योगों का भी समावेश रहे
(hitech areas), स्वदेशी प्रौद्योगिकी के लिये अनुसंधान होने की
दृष्टि से भारत की अनुसंधान तथा विकास संस्थायें (R.Ds)
अनु्राणित करना।

(११) भारतीय जीवन के सभी पहलूओं में यथायोग्य स्वदेशी नीति तथा आदर्श
विकसित करने के लिये शासन के साथ विचार विनिमय करना।
यह सारे उद्दिष्ट आधिक स्पष्ट करने की आवश्यकता नही।
क्योंकि योगेश्वर श्रीकृष्ण के 'स्वधमें निधनं श्रेयः' इस उक्तिका भौतिक
रुप है 'स्वदेशीं । आध्यात्मिक क्षेत्र में जो धर्म है, और सामाजिक, सांस्कृतिक
एवं राष्ट्रीय स्तर पर जो स्वधर्म है, भौतिक और आर्थिक (विज्ञान) स्तर पर
वही स्वदेशी है। इन उद्दिष्टों को ध्यान में रखकर काम करनेवाले कार्यकर्ताको
यथासंभव उत्तेजनात्मक सहाय्य करना संस्था ने कर्तव्य माना है।


*सम्मानित बन्धु,*
 स्वदेशी विज्ञान आंदोलन समूचे देश मे बढ़े इस  दृष्टि से समविचारी वैज्ञानिक मनीषियों एवं शास्त्रज्ञ द्वारा 21 अक्टूबर 1991 को विज्ञान भारती की  स्थापना की गई ।इसलिए प्रत्येक वर्ष इस पावन "विज्ञान स्थापना दिवस " को हम *"समर्पण दिवस"* के रूप में मनाते आए है  ।
उस दिन से आज तक इस विज्ञान आंदोलन में देश भर के अनेको  वैज्ञानिक ,शोधकर्ता चिंतक,बुद्धिजीवी ,शिक्षाविद  आदि लोगो का सतत योगदान इस कार्य को बल प्रदान करते आया है।
देश को  विज्ञान में स्वावलम्बी बनाने ,विज्ञान के क्षेत्र में  देश का आत्मगौरव बढ़ाने ,  विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी द्वारा देश के विकास एवं पुनर्निर्माण हो'  प्राचीन व आधुनिक विज्ञान के मध्य सेतु स्थापित करना ,आदि ऐसे उद्देश्यों के साथ इस विज्ञान आंदोलन के द्वारा समाज को प्रेरित करने के लिए  हम सब की भांति एक विशाल समूह    इस महान कार्य के लिए प्रतिबध्द है ।

आपको सूचित करने में अत्यंत हर्ष हो रहा है  कि हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी प्रांतीय इकाई द्वारा  *"विज्ञान भारती समर्पण कार्यक्रम"* आयोजित किया जा रहा है। अतः सादर आग्रह है कि उक्त अवसर पर अपने शुभचिंतको सहित इस कार्यक्रम में उपस्थित होकर ,समर्पण कर इस विज्ञान आंदोलन  को  सदृढ़ बनाने में योगदान करे।
धन्यवाद।

*दिनांक - 22/10/2019*
*समय - सायं 4:30*
*स्थान -*
*राम झरोखे,*
*NBRI सेंट्रल लॉन*
*लखनऊ*

*निवेदक - विज्ञान भारती अवध प्रान्त*
सौजन्य-विभा अवध प्रान्त

Tuesday, 15 October 2019

Great tribute to Dr A P J Abdul Kalam : Scientist of people

Aryabhatt Science

Great tribute to Dr A P J Abdul Kalam : Scientist of people



Dr. A P J Abdul Kalam
Dr. A P J Abdul Kalam

Aryabhatt Science Club Ranka Jharkhand (VP-JH0009) tribute to Dr. A P J Abdul Kalam : great scientist of India.
Tribute to our former president, the person who captured the imagination of every Indian Dr. A.P.J. kalam on his 88 birth anniversary. The UN declaration has marked his birth anniversary in the world which will fulfill his last wish to be remembered as a teacher to all the students on 'World Students Day'.APJ Abdul Kalam, the name itself invokes reverence and pride in the heart of every Indian. Born on 15th October 1931 in Rameswaram, the youngest son of a poor ferry owner overcame every hurdle that came in the path that he wanted to pave for himself, and went on to become one of the most loved and respected politicians of modern India. A scientist by profession, Dr Kalam was the 11th President of India from 2002 to 2007. He was also the father of India's military missile program. His aura, charm and never-fading smile made him a favorite among children and his motivational quotes made every Indian admire him. Dr Kalam passed away in Shillong, Meghalaya, while addressing the students of the Indian Institute of Management (IIM) on 27, July, 2015.


Monday, 2 September 2019

NSTC 2018 at IISF || National Science Teacher's Congress 2019

Aryabhatt Science
This post is about the short video of National Science Teacher's Congress workshop organised in 4th India International Science Festival, Indira Gandhi Pratisthan, Lucknow. The coordination of this programme mainltmdone by NCERT, Vibha, Vigyan Prasar, DBT and BARC.

    So watch the video and enjoy.

Friday, 30 August 2019

Registration of India international Science Festival 2019 will start soon

Aryabhatt Science

Be Ready for biggest Science Festival of Asia India International Science Festival 2019 (IISF 2019)

India international Science Festival kolkata

Note- Registeration started..... visit- www.scienceindiafest.org

Realme C2 (Diamond Blue, 32 GB) For 5th India International Science Festival 2019 ,various works are started and most importantly the registration will start soon.It will organised in the coordination of Department of Science and Technology, Ministry of Earth Science, Department of Biotechnology and Vijnana  Bharti.
Some important question about 5th India international Science Festival kolkata are -
1. IISF 2019 venue - different place of  kolkata according to different program
2. IISF 2019 registration- will start soon
3. Other name- Bhartiya antarrashtriya vigyan mahotsava.
4. IISF 2019 dates- 5 to 8 Nov 2019
To know what activity happens in India International Science Festival most watch below video till end -

Wednesday, 14 August 2019

आर्यभट्ट विज्ञान क्लब एक फिर सम्मानित

Aryabhatt Science

आर्यभट्ट विज्ञान क्लब एक फिर सम्मानित

VIPNET felicitation programme
Pic:Coordinator Alok Kumar Chaudhary getting certificate of gold category  

VIPNET Felicitation program Dr. Arvind C Ranade
Pic:Coordinator Alok Kumar Chaudhary getting certificate of   best poster award


VIPNET Felicitation program
Pic: Annual Felicitation program of VIPNET Clubs for 2018 &2019 at Rajkot Gujrat


विज्ञान प्रसार , विज्ञान एवम प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार द्वारा 12 और 13 अगस्त को दर्शन इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंजीनियरिंग एन्ड टेक्नोलॉजी, राजकोट में आयोजित अखिल भारतीय वार्षिक सम्मान समारोह में विज्ञान क्लब के उम्दा गतिविधियों के आधार पर 2019 में पुनः गोल्ड केटेगरी सम्मान से प्रधान वैज्ञानिक डॉ अरविन्द रानाडे और नवोदय विद्यालय संगठन के जॉइंट सेक्रेटरी डॉ रामचंद्रन द्वारा सम्मानित किया गया।वहीं पर आयोजित पोस्टर प्रेजेंटेशन प्रतिस्पर्धा में भी झारखण्ड में क्लब के समन्वयक आलोक चौधरी को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ। इस खबर से विज्ञान क्लब के सभी सदस्यों में काफी खुशी है। मौके पर क्लब के वरीय पदाधिकारी सतीश कु पांडेय, अजित कु पांडेय, रामानुज कुमार आदि ने ख़ुशी व्यक्त की है।

Thursday, 11 July 2019

Awareness program on rapid growing population

Aryabhatt Science

*बढ़ती जनसंख्या के प्रति जागरूकता कार्यक्रम*



 आर्यभट्टविज्ञान क्लब ,रंका के बैनर तले जनसंख्या दिवस(11 जुलाई) के अवसर पर एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन क्लब द्वारा राजकीय कन्या मध्य विद्यालय में किया किया गया, जिसमे  शिक्षक , गणमान्य और छात्र -छात्राओं ने बढ़- चढ़कर हिस्सा लिया।क्लब के अध्यक्ष अजित कु. पांडेय और प्रधानाध्यापिका पिंकी कुमारी ने कार्यक्रम का उद्देश्य और लोगो पर इसका प्रभाव  के बारे में विचार रखा। विद्यार्थियों को जनसंख्या से संबंधी वीडियो दिखाकर विषय को रुचिकर दृष्टि से रखा गया।क्लब के समन्वयक आलोक चौधरी ने बताया कि क्लब के गतिविधियों के कारण विज्ञान प्रसार, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग, भारत सरकार ने पत्र भेजकर क्लब को सम्मानित करने के लिए अगस्त में राजकोट में आमंत्रित किया है।मौके पर मौजूद शिक्षिका शोभा कुमारी साधना कुमारी ने बढ़ती जनसंख्या की समस्या के मूल और क्षितिज कंप्यूटर के रामानुज कुमार,अविनाश कुमार ने इसके निदान पर अपने विचार रखे।










Sunday, 7 July 2019

Aryabhatt Science Club (VP-JH0009) of Jharkhand will be honored again

Aryabhatt Science

Aryabhatt Science Club (VP-JH0009) of Jharkhand will  be honored again

Gold Category award Aryabhatt Science Club
Felicitation letter for Aryabhatt Science Club (VP-JH0009) Ranka

Vigyan Prasar ,Department of Science and Technology Govt of India sent  a letter to Aryabhatt Science Club Ranka Jharkhand India for the information about felicitation program which will be organise to honor various category awarded club.Aryabhatt science  club will be honored as gold category award in Arpit Institute of Engineering and Technology ,Rajkot ,Gujrat.This program will organise 12 and 13 August 19.

While Aryabhatt Science Club Ranka already felicitated as gold category award at NCERT New Delhi on the occasion of National Science Day 2017.

Attended Interactive Workshop on Socio- Environmental Issues of Coal Mining

Aryabhatt Science

Attended Interactive Workshop on Socio- Environmental Issues of Coal Mining

Attended Interactive Workshop on Socio- Environmental Issues of Coal Mining jointly organised by BCCL & Vigyan Bharti , Jharkhand.Nice to listen Environment specialist Dr. NP Shukla and Dr. Jayant Rao Saharabuddhe of Vigyan Bharti

2nd talk of Aryabhatta vyakhyanmala of Vibha Jharkhand was organised  in the conference hall of  Bharat Coking Coal Limited Dhanbad. The talk was on "Socio-environmental-environmental issues of Coal Mining" by Dr N P Shukla,  Former Chairman MPPCB, Member EAC of MoEF&CC, & and GC Vibha. National Organising Secretary of VIBHA  Sri Jayant Sahasrabuddhe ji gave orientation talk on  Vision and mission Vigyan Bharati to Newly joined Members of Vigyan Bharati. It was participated by more than 60 persons including CMD BCCL Sri Shekhar Sharan, Director Tech (P&P) Sri Rakesh Kumar and Director Tech (OP) Sri Prasad ji, all the General Manager of different areas and HoD of different department, Nodal officers of environmental from different area of BCCL  alongwith VIBHA Jharkhand Memebers participated in the program. Recently more than 150 practicing engineered of  BCCL taken Membership of Vigyan Bharati.






World Yoga Day Celebrated by the member student of Aryabhatt Science Club

Aryabhatt Science

World Yoga Day Celebrated by the member student of Aryabhatt Science Club

 Aryabhatt Science Club organised Yoga campaign on the occasion of 5th International Yoga Day to the villagers for the Popularise mental and physical benefit of the yoga among the people.Yoga is very important for the young generation due to their more attraction towards the mobile , so many child organised and participated in this activity of club and shared various yoga methods.

Wednesday, 5 June 2019

World Environment Day 2019 Activity of Club

Aryabhatt Science

World Environment Day 2019 activity of Aryabhatt Science Club Ranka Jharkhand India

Aryabhatt Science Club at Jharkhand State Pollution Control Board (Regional Laboratory)

On this #WorldEnvironmentDay #WED2019 involved in the activity of Regional Laboratory of Jharkhand State Pollution Control Board ,HZB and learnt about air sample testing.
#ASCRanka
Aryabhatt Science Club, Ranka
#BeatAirPollution








 of World Environment Day (WED 2019) Aryabhatt Science Club (VP -JH0009) visited to the Regional Laboratory and office of Jharkhand State Pollution Control Board , Hazaribag to know the working of the Jharkhand State Pollution Control Board. Here the officers of Laboratory told various interesting things about the environment and showed the air quality checking machine (Respirable Dust Sampler) and explained the various part of that machine with working process.Due to the pollution control board club understand more about the scientific thing about Environment

Monday, 27 May 2019

New Upgraded Club List of Vigyan Prasar Network Club for 2019

Aryabhatt Science

New Upgraded Science Club of Vigyan Prasar Network of Science Club are released for 2019

Vigyan Prasar Department of Science and Technology Govt of India have published the new upgraded Club list for 2019 duly before the 31st may due to last date of coordinator club id is 31st may 2019.And due to this ,as the upgradation status all coordinator will again get the club id and respective facility of upgradation by VP.

By follow below link you can directly reach to the site where you can find your status easily by putting your club ID or by selecting the club category.


And Congratulations to all members of Aryabhatt Science Club Ranka (VP-JH0009) for getting Gold category for 2019 by Vigyan Prasar.

Vipnet Felicitation programme 2018 video

Sunday, 21 April 2019

Night Sky moon watch (Chandradarshan program organized by Science Club

Aryabhatt Science

Night Sky moon watch (Chandradarshan) program organized by Science Club on the Poornima (Full moon day)


Alok Kumar Chaudhary
Night sky moon watch by Science Club


Alok Kumar Chaudhary
Moon watch by Astronomical Telescope

Alok Kumar Chaudhary
         Moon watch by Astronomical Telescope

Aryabhatt Science Club Ranka Jharkhand organized a night sky moon watch Program (in local language Chandradarshan) on the occasion of full moon day poornima,which is an important astronomical event .In this program club tried to reach to the society with the various new fact and 5' Astronomical telescope of Vigyan Prasar on this famous day of full moon and also Hanuman Jayanti and Good Friday to reach to the society.This time this sky program organized by club in the centre of city which is Ranka Phatak on the 19th APR '19 and showed the moon to all passing man, students,bussinessman,shopkeeper and all others. All visitors enjoyed this activity of the Science Club in the coordination of club coordinator Alok Kumar Chaudhary and other members.Also some audience requested to organize this program again, so it will organise soon for all.



Invitation for Chandradarshan program 2019


Friday, 19 April 2019

All are invited to sky watch activity on the occasion of full moon day

Aryabhatt Science

पूर्णिमा के अवसर पर आयोजित चंद्रदर्शन कार्यक्रम में सभी का हार्दिक स्वागत है

आर्यभट्ट विज्ञान क्लब ने पूर्णिमा जो एक महत्वपूर्ण आकाशीय घटना है के दिन चंद्रदर्शन कार्यक्रम का निर्णय लिया है,जिसमे 5 इंच के आकाशीय दूरबीन (एस्ट्रोनॉमिकल टेलिस्कोप )द्वारा चन्द्रमा का दर्शन कराया जायेगा।और अगर संभव होगा तो आकाशीय गृह व् दिखाया जा सकता है।चूँकि आज के ही दिन दो अन्य महत्वपूर्ण दिवस हनुमान जयंती और गुड फ्राइडे भी है इसलिए  यह कार्यक्रम रंका जे फाटक के पास आज दिनांक 19/04/2019 को सायं 6:30 को रखा गया है।जिसमे आकाशीय घटना में दिलचस्पी लेने वालों का हार्दिक स्वागत है।

अंतरिक्ष में भारतीय वैज्ञानिकों का कारनामा:


Saturday, 6 April 2019

HOW to apply ISRO Young Scientist Program

Aryabhatt Science
How to apply forYUVIKA
Apply for ISRO YUVIKA

How to Apply ISRO Young Scientist Program (ISRO YUVIKA Program)

ISRO YUVIKA
Online Apply ISRO Yuvika

इसरो यंग साइंटिस्ट प्रोग्राम छात्र हित में  इसरो द्वारा आरम्भ किया गया भहुत ही महत्वाकांक्षी योजना है इसलिए छात्रो में इसके लिए आवेदन के लिए बहुत उत्सुकता देखने को मिली ,जो न सिर्फ छात्रो ने नही थी बल्कि यह शिक्षकों और माता पिता में भी उतनी ही थी।इस पोस्ट में इसके बारे में ही जानेंगे।
इस प्रोग्राम में इसरो ने ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों माध्यम से आवेदन स्वीकार किया।


ऑनलाइन माध्यम से आवेदन-

इस माध्यम से अप्लाई करने की लास्ट तिथि 20 मार्च या उससे पहले की थी। माध्यम से अप्लाई झरने के लिए आवेदक को इसका फॉर्म को डाउनलोड करके उसे प्रिंट करना था ।उसके बाद उसे अच्छे से पूरी जानकारी के साथ भरकर अपने प्रधानाध्यापक या प्राचार्य से अभिप्रमाणित करके उसे विद्यालय के जिले के  जिला शिक्षा अधिकारी को जमा करना था।इस आवेदन का फॉर्म का लिंक आर्यभट्ट वीज्ञान क्लब के यूट्यूब चैनल पर दिया गया था इर अभी भी है ।ऑफलाइन मध्यम का फॉर्म भरने का तरीका इस वीडियो में है। आप यूट्यूब ऑप्टटीन को क्लिक  करके चैनल को  subscibe कर सकते है ताकि ऐसा कोई भी अपडेट छूटे न। https://youtu.be/KNyCugopSGQ

ऑनलाइन माध्यम से आवेदन

इस माध्यम से आवेदन करने की तिथि 21 मार्च से आरंभ और 3 अप्रैल थी।और प्रोविशनल परिणाम की घोषणा 6 अप्रैल है।इसके लिए युविका के अप्लाई के लिए बने वेबलिंक पर जाकर रजिस्टर करना था ,अप्लाई करना था।अप्लाई करने के बाद जो जानकारी छात्र द्वारा भरी जातिवठी उसका एक आवेदन फॉर्म बन जाता था।इस आवेदन पत्र को छात्र को अपने प्रधानाध्यापक से हस्ताक्षर करवाकर पुनः इसे स्कैन करके लॉगिन करके उस वेबसाइट पर अपलोड करना था।इसके आवेदन के लिए बने वेबसाइट की लिंक वीज्ञान क्लब के यूट्यूब चैनल पर दे दिया गया था।ऑनलाइन अप्लाई के लिए बना वीडियो।



परिणाम

दोनों माध्यम से आवेदन देने वाले छात्रों का आवेदन पर विचार करने के बाद इसरो प्रोविशनली चयनित छात्रो का नाम अपने वेबसाइट पर पब्लिश करेगा ।इन छात्रों को आवेदन के समय दिए गये जानकारी को सत्य करने के लिए अपने सम्बंधित सभी प्रमाणित प्रमाण पत्रों को स्कैन करके मेल करना है।इस बारे में अधिक जानकारी हमारे दूसरे ब्लॉग इस पर है-
इसरो यंग साइंटिस्ट प्रोग्राम के लिए चयनित छात्रो का नाम हुआ जारी

इसरो युविका परिणाम || Result of ISRO YUVIKA Program || || Students selected for ISRO Young Scientist Program

Aryabhatt Science

See Student selected for ISRO Young Scientist Program (Result YUVIKA of ISRO)


 

इसरो यंग साइंटिस्ट प्रोग्राम के लिए चयनित छात्रो का नाम हुआ जारी।                    This article in English

Result
Source :ISRO yuvika program

Click here to get every info of YUVIKA on YT

जैसा की इसरो ने कहा था कि वह 6 अप्रैल को प्रावधिक (provisionally) चयनित छात्रो का नाम जारी करेगा , तो इसरो यंग साइंटिस्ट प्रोग्राम के लिए चयनित छात्रो /छात्राओं के नाम जारी कर दिया है। इस चयनित लिस्ट में सारे राज्य व् केंद्रशासित प्रदेशो के 3 छात्र व छात्राओं के नाम, पिता का नाम एवम विद्यालय का नाम है।Click below to download the selcted list of ISRO YUVIKA progeram-

Selected student list of ISRO young Scientist program


क्या है प्रावधिक (Provissionally) चयनित छात्रो के लिस्ट?

इसके अनुसार इस लिस्ट में वैसे अभ्यर्थी के नाम है जो योग्य तो पाये गये है परंतु उन्हें इसके लिए प्रमकन पत्र प्रस्तुत करने होंगे।उन्होंने जो भी फॉर्म भरते समय बताया है उसे प्रमाणित करने होगा।अतः इस लिस्ट में छपे नाम पूर्णतः चयनित च्छ्त्र नही हकी अगर वे प्रमाण पत्र प्रसतुत नही कर पाए तो किसी अन्य अभ्यर्थी को यह मौका दे दिया जायेगा।


कैसे भेजना है प्रमाण पत्र?

प्रमाण पत्र का असली कॉपी नहि भेजना है जबकि ,प्रमाण पत्र का अभिप्रमाणित फोटो को मेल करना है।इसके बारे में गाइड लाइन संभव है कि प्रोविशनली चयनित छात्रो को भेजा जाए ।फिर भी आपको सम्बंधित ईमेल आईडी दिया जक रहा है।

किसी भी असुविधा की स्थिति में नीचे कमेंट कर सकते है।


Thursday, 14 March 2019

आइंस्टीन विश्व विज्ञान जगत में सदा अमर रहेंगे : डॉ. प्रदीप

Aryabhatt Science

आइंस्टीन विश्व विज्ञान जगत में सदा अमर रहेंगे : डॉ. प्रदीप




देवघर (------------------------------------------) : स्थानीय साइंस एंड मैथमेटिक्स डेवलपमेंट आर्गेनाईजेशन के बैनर तले विश्व के महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन की 140 वीं जयंती मनाई गई । मौके पर साइंस आर्गेनाईजेशन के राष्ट्रीय सचिव डॉ. प्रदीप कुमार सिंह देव ने कहा- अल्बर्ट आइंस्टीन का जन्म 14 मार्च, 1879 को हुआ था । वे एक विश्वप्रसिद्ध सैद्धांतिक भौतिकविद् थे जो सापेक्षता के सिद्धांत और द्रव्यमान-ऊर्जा समीकरण के लिए जाने जाते हैं। उन्हें सैद्धांतिक भौतिकी, खासकर प्रकाश-विद्युत ऊत्सर्जन की खोज के लिए 1921 में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया।उन्होंने सामान्य आपेक्षिकता और सामान्य आपेक्षिकता के सिद्धांत सहित ब्रह्मांड, केशिकीय गति, क्रांतिक उपच्छाया, सांख्यिक मैकेनिक्स की समस्याऍ, अणुओं का ब्राउनियन गति, अणुओं की उत्परिवर्त्तन संभाव्यता, एक अणु वाले गैस का क्वांटम सिद्धांत, कम विकिरण घनत्व वाले प्रकाश के ऊष्मीय गुण, विकिरण के सिद्धांत, एकीकृत क्षेत्र सिद्धांत और भौतिकी का ज्यामितीकरण दुनिया को दिया है । आइंस्टीन ने पचास से अधिक शोध-पत्र और विज्ञान से अलग किताबें लिखीं।



आइंस्टीन ने 300 से अधिक वैज्ञानिक शोध-पत्रों का प्रकाशन किया। 5 दिसंबर 2014 को विश्वविद्यालयों और अभिलेखागारो ने आइंस्टीन के 30,000 से अधिक अद्वितीय दस्तावेज एवं पत्र की प्रदर्शन की घोषणा की हैं। आइंस्टीन के बौद्धिक उपलब्धियों और अपूर्वता ने "आइंस्टीन" शब्द को "बुद्धिमान" का पर्याय बना दिया है। अपने पूरे जीवनकाल में, आइंस्टीन ने सैकड़ों किताबें और लेख प्रकाशित किये। उन्होंने 300 से अधिक वैज्ञानिक और 150 गैर-वैज्ञानिक शोध-पत्र प्रकाशित किये।
उन्होंने सापेक्षता के सिद्धांत को व्यक्त किया। जो कि हरमन मिन्कोव्स्की के अनुसार अंतरिक्ष से अंतरिक्ष-समय के बीच बारी-बारी से परिवर्तनहीनता के सामान्यीकरण के लिए जाना जाता है। अन्य सिद्धांत जो आइंस्टीन द्वारा बनाये गए और बाद में सही साबित हुए, बाद में समानता के सिद्धांत और क्वांटम संख्या के समोष्ण सामान्यीकरण के सिद्धांत शामिल थे। मौके पर डाक द्वारा आयोजित निबन्ध प्रतियोगिता के विजयी प्रतिभागियों के नाम की घोषणा की गई ।

Monday, 11 March 2019

Chance to be Resource person of Vidyarthi Vigyan Manthan of Vigyan Bharti

Aryabhatt Science

Chance to be Resource person of Vidyarthi Vigyan Manthan of Vigyan Bharti


You are requested to share this information with the teachers/lecturers/professors/scientists/science communicators.

Vidyarthi Vigyan Manthan 2019-20 hereby appeal / invite the teachers/lecturers/professors/scientists/science communicators from the entire country to submit the questions of the subject/s (Physics, Chemistry, Biology and Mathematics) they like the most and join us as the Academic Resource Person for VVM 2019-20 under the *"Expression of Interest"* through Online and Offline mode. The link is activated and will remain active till 31 March 2019. You can visit our website or the following link to know more.

Click here for Register

Wednesday, 6 March 2019

दन्त चिकित्सक दिवस पर डॉ. कृनिता सहित वतन के 11 चिकित्सकों को अंतर्राष्ट्रीय सम्मान देने का ऐलान

Aryabhatt Science

हर चेहरे पर फबती है एक सुंदर सा मुस्कान :डॉ. प्रदीप


दन्त चिकित्सक दिवस पर डॉ. कृनिता सहित वतन के 11 चिकित्सकों को अंतर्राष्ट्रीय सम्मान देने का ऐलान
डॉ कृनिता मोटवाणी(महाराष्ट्र)

डॉ हुबर्ट गोम्स (गोवा)

डॉ शोमेश ग्रोवर (हरियाणा)

डॉ शलाका कादली व डॉ सौरभ कादली


देवघर ( -------------------------------------) : स्थानीय विवेकानन्द शैक्षणिक, सांस्कृतिक एवं क्रीड़ा संस्थान तथा साइंस एंड मैथमेटिक्स डेवलपमेंट आर्गेनाईजेशन के युग्म बैनर तले राष्ट्रीय दन्त चिकित्सक दिवस के अवसर पर वतन के स्वनामधन्य ग्यारह दन्त चिकित्सकों को " महात्मा गाँधी 150 वीं जयंती स्मृति दन्त चिकित्सक सम्मान "प्रदान करने का निर्णय लिया गया । विवेकानन्द संस्थान के केन्द्रीय अध्यक्ष सह साइंस आर्गेनाईजेशन के राष्ट्रीय सचिव डॉ. प्रदीप कुमार सिंह देव ने जानकारी दी कि इस वर्ष 2 अक्टूबर को अंडमान निकोबर में अंतर्राष्ट्रीय सम्मान समारोह के दौरान महाराष्ट्र से मुंबई के डॉ. कृनिता मोटवाणी, डॉ. शलाका कादली एवं डॉ. सौरभ कादली, नागपुर के डॉ. हर्षवर्धन आर्या, अहमदाबाद, गुजरात के डॉ. अग्रवात, नई दिल्ली के डॉ. अरुण सेतिया, डॉ. सुनील खोसला, डॉ. अरुण ग्रोवेन एवं डॉ. गगन सभरवाल,  गोवा के डॉ. हुबर्ट गोम्स तथा गुड़गांव, हरियाणा के डॉ.  सोमेश ग्रोवर को यह सम्मान प्रदान किया जायेगा । मौके पर डॉ. देव ने कहा- हर चेहरे पर फबती है एक सुंदर सी मुस्कान और मुस्कान को सुंदर बनाते हैं स्वस्थ दांत । कुछ सावधानियों को बरत कर हम अपने दांतों को स्वस्थ रख सकते हैं- अपने टूथब्रश को अक्सर बदलते रहें और नया टूथब्रश इस्तेमाल करें। नियमित रूप से फ्लॉस करना चाहिए । विटामिन सी और कैल्शियम युक्त उचित स्वास्थ्यपरक आहार के साथ मौसमी खाद्य पदार्थों और सब्जियों का सेवन जरूरी है । नियमित रूप से दांतों का चेकअप सभी के लिए जरूरी है । इस मौसम में हम कॉफी या चाय जैसे गर्म पेय क खूब सेवन करते हैं, जिसमें कैफीन होता है, इससे हमारे दांत खराब या कमजोर हो सकते हैं और उन पर दाग या कालापन हो सकता है, इसलिए दोनों का कम मात्रा में सेवन करने की चेष्टा करनी चाहिए ।